Thursday, 26 July 2018

हद है कि दिल्ली में भूख से मरने का अधिकार चाहिए


तुम्हें मेट्रो दे दिया
बुलेट ट्रेन बस देने ही जा रहा हूं
हद है कि तुम्हें रोटी भी चाहिए

तुम्हें स्मार्ट फोन दे दिया
कहीं फ्री , कहीं सस्ता इंटरनेट भी दे दिया
हद यह है कि तुम्हें भात भी चाहिए

तुम्हें सड़क , बिजली , आदि-इत्यादि दे दिया
दूध की तरह विकास देने वाली सरकार भी
हद है कि तुम्हें राशन के लिए राशन कार्ड भी चाहिए

तुम्हें अस्पताल दे दिया
भ्रूण हत्या की असीमित सुविधा भी
हद है कि तुम को भूख से मरने का प्रचार भी चाहिए

दहेज हत्या में मरो , सामूहिक बलात्कार के बाद मरो
तलाक़ और हलाला के बाद मरो , देश में कहीं भी , कैसे भी मरो
हद है कि तुम को दिल्ली में भूख से मरने का अधिकार चाहिए

देश में मरने की तमाम जगहें हैं ,
किसी डाक्टर ने कहा है कि दिल्ली ही में मरो
हद है कि तुम्हें दिल्ली में मर कर विपक्ष के बयान में स्थान चाहिए

[ 26 जुलाई , 2018 ] 

No comments:

Post a comment