Wednesday, 25 July 2018

मैं बरस रहा हूं


अभी हवा में ढूंढ रहा था तुन्हें
तो बादल मिल गया 
तो उसी से तुम्हारा पता पूछ लिया 

बादल बोला , पता तो मुझे मालूम है
पर बहुत जल्दी में हूं 
सो पता बता पाना मुश्किल है
 
बरस सकते हो तो बरसो मेरे साथ 
पता ख़ुद-ब-ख़ुद मिल जाएगा 
पहुंच जाओगे उस के पास अनायास
जिस का पता पूछ रहे हो

सो अब बादल नहीं , मैं बरस रहा हूं 
तुम तक पहुंचने के लिए

[ 25 जुलाई , 2018 ]

No comments:

Post a comment