Monday, 8 February 2016

बहुत कर चुका प्रपोज तुम को अब तुम्हारी बारी है




 ग़ज़ल 

आज के दिन फिजिक्स तुम्हारी केमेस्ट्री हमारी है 
बहुत कर चुका प्रपोज तुम को अब तुम्हारी बारी है 

सूरज रोज निकलता है चांद निकलना रोज होता नहीं 
इंतज़ार की सारी रात हमारी है खिली चांदनी तुम्हारी है 

तुम यह कहो या वह कहो तुम्हारी चांदनी में जीता हूं 
दुनिया चाहे जो कहे खरबूज मैं हूं और छुरी तुम्हारी है

पहले आंखों में बसी दिल में उतरी ज़िंदगी में बस गई 
रोम-रोम में बस कर  क्या सातो जनम की तैयारी है 

रुंधती रहती हो हर क्षण मुझे किसी कुम्हार की तरह 
गीली मिट्टी हूं जो चाहो बना लो यह दुनिया तुम्हारी है 

बहुत संवार चुकी मुझ को आज खुद को संवारने दो 
प्रपोज तुम करो स्वीकार करने दो मुझे  मेरी बारी है

प्रधान मंत्री तुम गृह मंत्री तुम वित्त मंत्री भी तुम्हीं हो
शासन तुम्हारा ही है लेकिन आज राष्ट्रपति की बारी है  

[ 8 फ़रवरी , 2016 ]

No comments:

Post a Comment