Friday, 5 February 2016

पर इतने कायर हैं कि मां के गर्भ में उपस्थित लड़की से डरते हैं



ग़ज़ल

उन के पास तोप तलवार टैंक है ऐटम बम भी ले कर चलते हैं
पर इतने कायर हैं कि मां के गर्भ में उपस्थित लड़की से डरते हैं  

सारी सुविधाओं से लैस बात-बेबात गोली बंदूक़ चलाते रहते हैं 
लेकिन जिगरा देखिए कि नौकरी करने वाली लड़की से डरते हैं

उस के पास किताब है स्कूल जाती है मोबाइल कंप्यूटर चलाती है
अजब लोग हैं इस शहर  के जो  एक छोटी सी  लड़की से डरते हैं

अपने गंवारपन और जहालत से निकलना मंज़ूर नहीं है हरगिज 
उन को तो हिजाब और बुरक़ा  प्यारा है पढ़ी-लिखी लड़की से डरते हैं

मंदिर में काली दुर्गा बना कर पूजने में ऐतराज नहीं है उन को 
लेकिन घर समाज में औरत को बराबरी से  बैठाने में  डरते हैं

वह चाहते हैं मोम की गुड़िया जो उन के पिघलाने से पिघल जाए
उन के जमाये से जम जाए अपनी सत्ता के ढह जाने से डरते हैं

सोचे नहीं  बिना ना नुकुर किए चूल्हे की आग में  होम हो जाए 
उन की ग़ुलामी से कहीं इंकार न कर दे इस बात से बहुत डरते हैं 

मायके से आए तो ख़ूब सारा दहेज़ लाए जुबान उस की सिली रहे 
स्वेटर बुने मटर छिले सच न बोल दे मुसलसल इस बात से डरते हैं 

 [ 6 फ़रवरी , 2016 ]

2 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (07-02-2016) को "हँसता हरसिंगार" (चर्चा अंक-2245) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete