Thursday, 11 February 2016

जे एन यू में आतंक का कश्मीरी राग सुन कर हरगिज हैपी नहीं हैं




ग़ज़ल 

वामपंथियों का यह देशद्रोही बवाल देख कर हम बिलकुल हैपी नहीं हैं 
जे एन यू में आतंक का यह कश्मीरी राग सुन कर हरगिज हैपी नहीं हैं 

कश्मीर देश का मुकुट है ज़न्नत है धरती की उसे ये तोड़ने की ज़िद में हैं 
कश्मीरी पंडित  कश्मीरी मुल्ला और  कश्मीरियत भी इन से हैपी नहीं हैं 

राष्ट्रीयता की मारी ढ़पोरशंखी दोगली सरकार भी हाथ पर हाथ धरे बैठी है 
निकम्मी सरकार की इस नपुंसकता भरी कायरता से भी हम हैपी नहीं हैं

लाखों सैनिक शहीद हो गए कश्मीर की सरहद पर  मासूमों की जान गई 
 जिस झेलम चिनाब में खून बहा वह नदियां रोती हैं यह नदियां हैपी नहीं हैं 
 
विदेशी फंडिंग के मारे हैं क्रांति का मुखौटा ओढ़ कर अमन के दुश्मन हैं 
इन को हर तरफ आग चाहिए देश में शांति हो यह सोच कर यह हैपी नहीं हैं

सेक्यूलरिज्म की चादर ओढ़ कर यह समाज बांटते रहते हैं देश तोड़ते हैं 
दलितों का दामन थाम कर पल-पल इन के जहर घोलने से हैपी नहीं हैं 

बुद्धिजीवी होने का स्वांग भर कर हिप्पोक्रेसी की हरदम हाइट तोड़ते हैं 
इन की चुनी हुई चुप्पियों चुने हुए विरोध से अब देश के लोग हैपी नहीं हैं 

संसद पर हमलावर अफजल को शहीद बता आज़ादी का नारा लगाते हैं
यह और ऐसी इन की नापाक हरकतों से आम शहरी भी कहीं हैपी नहीं है 

फेलोशिप की हड्डी पा कर कुत्तों की तरह चबाने वाले पत्रकार भी चुप हैं 
मिशनरियों से पैसा पा कर जहर उगलने वाले बंडलों से हम हैपी नहीं हैं

आत्म-मुग्धता अहंकार कुतर्क कुटिलता और दंभ में डूबे हुए यह लोग
सड़े हुए इन नासूरों से कोई हिस्सा कोई हलका कोई भूगोल हैपी नहीं हैं


 [ 11 फ़रवरी , 2016 ]

No comments:

Post a Comment