Tuesday, 23 December 2014

टी वी पत्रकारिता कर रही औरतें राजनीतिज्ञों के लिए एक बड़ा ख़तरा


उमर अब्दुल्ला और निधि राज़दान



अब यह टी वी पत्रकारिता कर रही औरतें राजनीतिज्ञों के लिए एक बड़ा ख़तरा हैं। उमर अब्दुल्ला इस के नए  शिकार हैं। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह और अमृता राय की अंतरंग तस्वीरें अभी जल्दी की ही बात हैं । अमृता राय पहले ज़ी न्यूज में थीं अब राज्य सभा टी वी में हैं । अमृता राय के लिए तो दिग्विजय सिंह ने सार्वजनिक ऐलान किया हुआ है कि अमृता राय के अपने पति से तलाक के बाद वह अमृता राय से विवाह करेंगे । हालां कि दिग्विजय सिंह सत्तर पार कर गए हैं और कि अमृता राय चालीस के आस-पास की हैं। देखना शेष है कि उमर अब्दुल्ला अपनी इस एन डी टी वी की माशूका के साथ क्या सुलूक करते हैं ?

उमर अब्दुल्ला
अब उमर अब्दुल्ला  एन डी टी वी  की एक मोहतरमा निधि राजदान के साथ अपना दांपत्य और राजनीति न्यौछावर कर चुके हैं । व्यर्थ ही कश्मीर में उमर अब्दुल्ला की हार को लोग उन की नाकामियों और बाढ़ से जोड़ रहे हैं । एक फैक्टर है यह भी इस से इंकार नहीं है लेकिन पूरा सच यह नहीं है । एक बड़ा सच यह है कि वह अपनी अय्यासियों के चलते हारे हैं। इस के चलते वह पहले तो अपना दांपत्य बिखरा बैठे और अब अपना राजनीतिक जीवन भी। एक टी वी

निधि राज़दान
पत्रकार मोहतरमा निधि राजदान जो ख़ुद भी शादीशुदा हैं , के चक्कर में वह कश्मीर में कम और दिल्ली में ज़्यादा रहने लगे। रियासत और हुकूमत चमचों के भरोसे छोड़ वह दिल्ली की बांहों में समाये रहे पांच साल। 

श्रीनगर में लोग तो क्या मंत्री और अफ़सर भी उन से नहीं मिल पाते थे। वह वहां रहते ही नहीं थे। इसी लिए मारे डर के दो जगह से चुनाव लड़े । गनीमत है कि एक जगह सैनवार से भले वह हार गए हैं पर दूसरी जगह वीरवाह से किसी तरह एक हज़ार वोट से चुनाव जीत गए हैं । पर इस जीत का भी अब वह क्या करेंगे ?मुंगेरी लाल ज़रूर बन गए हैं और उम्मीद कर रहे हैं कि पी डी पी के सईद साहब उन्हें फोन करेंगे सरकार बनाने के लिए। क्या तो बिहार में अगर लालू और नीतीश एक हो सकते हैं तो कश्मीर में भी यह क्यों नहीं हो सकता ?



पी चिदंबरम

कांग्रेस नेता पी बी चिदंबरम भी टी वी की दो महिला पत्रकारों के फेरे में थे । जब वह वित्त मंत्री थे तब एन डी टी वी की ही एक पत्रकार उन से इंटरव्यू करने गईं तो चिदंबरम ने सीधे उन्हें बैडरूम में बुला लिया। वह बेडरूम में चली भी गईं । पर जब चिदंबरम ने सीधे बिरस्तरबाज़ी की शर्त रख दी इंटरव्यू देने के लिए तो किसी तरह वह जान छुड़ा कर भागीं । भूल गईं  इंटरव्यू-सिंटरव्यू ।






कल्पनाथ राय
 एक समय कांग्रेस नेता कल्पनाथ राय दूरदर्शन की एक न्यूज रीडर के साथ जुड़े थे। औरतबाज़ी के लिए कल्पनाथ राय वैसे  भी बदनाम बहुत थे । जब वह ऊर्जा मंत्री थे तब तो एक बार  एक नेपाली महिला के चक्कर में ऊर्जा विभाग के एक गेस्ट हाऊस में कुछ आंतंकियों को भी ठहरा दिया तो भारी मुसीबत में फंस गए थे । बड़ी मुश्किल से वह इस से उबर पाए ।

क़िस्से बहुत हैं राजनीतिज्ञों की औरतबाज़ी और इश्क के । पर फिलहाल कुछ टी वी वाली ज्ञात महिलाओं के साथ के क़िस्से हैं यह । कुछ और क़िस्से भी हैं टी वी वाली मोहतरमाओं के । इतनी कि  फ़िल्मी मोहतरमाएं शर्मा जाएं । लेकिन अभी फ़्लोर पर हैं । शूटिंग , गैदरिंग जारी है । फिल्म पूरी होते ही आप को डिटेल बताऊंगा ।

No comments:

Post a comment