Friday, 12 October 2018

इंदिरा , फिरोज और लखनऊ की दो औरतें


इंदिरा गांधी और फिरोज गांधी के आपसी झगड़े जब बहुत बढ़ गए तो नेहरु ने फिरोज गांधी और इंदिरा को लखनऊ भेज दिया । लखनऊ में रहने के लिए फिरोज गांधी को नेशनल हेराल्ड का काम धाम थमा दिया । लखनऊ के शाहनज़फ़ रोड पर एक बंगले में फिरोज और इंदिरा गांधी रहने लगे थे। लेकिन झगड़े खत्म होने के बजे बढ़ने लगे । फिरोज इंदिरा गांधी को किक कर ज्यादा समय सरोजनी नायडू की बेटी के साथ राजभवन में बिताने लगे । सरोजनी नायडू उन दिनों उत्तर प्रदेश की राज्यपाल थीं । फिर फ़िरोज़ गांधी सिर्फ सरोजनी नायडू की बेटी के अलावा लखनऊ की एक और औरत पर फ़िदा हुए । वह औरत तब कविताएं लिखती थी । महत्वाकांक्षी बहुत थी । बाद के दिनों में राजनीति में भी आई । ताकतवर मंत्री रहीं ।

फिरोज गांधी के निधन के बाद भी इंदिरा गांधी उस औरत को हमेशा सिर पर बिठा कर रखती रहीं । कि वह कहीं कोई निजी बात न बोल दे । सो मुख्यमंत्री कोई हो , सरकार में ताकतवर मंत्री बन कर यह औरत हमेशा रही , जब तक उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की सरकार रही । मंत्री रहते एक से एक अजब-गज़ब फैसले लिए । जैसे एक बार जब छात्र संघ आंदोलन पूरे उत्तर प्रदेश में सरकार की सांसत का सबब बन गया तो बतौर शिक्षा मंत्री सभी वाईस चांसलर की मीटिंग बुला कर कह दिया कि सभी जगह सेशन अनियमित कर दिए जाएं । कहीं जुलाई में सेशन शुरू हो तो कहीं जनवरी में । सेशन अनियमित रहेंगे तो छात्र एकजुट नहीं हो पाएंगे और आंदोलन टूट जाएगा । यही हुआ भी । इस चक्कर में कई जगह सेशन दो-दो साल पीछे हो गए , रद्द हो गए । छात्रों का जो नुकसान हुआ सो हुआ , सरकार सांसत से बच गई । ऐसे और भी कई सारे फ़ैसले और घटनाएं हैं ।

एक बार एक दारोगा का ट्रांसफर रोकने के लिए वह एस एस पी , लखनऊ पर बहुत दबाव बनाती रहीं । एस एस पी ने हाथ खड़े कर दिए । कहा कि बात डी जी पी तक पहुंच गई है , उन्हीं से बात करें । डी जी पी से भी कहा । डी जी पी ने भी उस दारोगा का ट्रांसफर नही रोका तो एक दिन सारा प्रोटोकाल तोड़ कर वह डी जी पी के आफिस पहुंच गईं । डी जी पी पर बरसने लगीं । एक चतुर्वेदी जी तब डी जी पी थे । जब बहुत हो गया तो उन्हों ने कमरे में टंगी अपनी फ़ोटोदिखाते हुए कहा , मैडम यह फ़ोटो यहां टंग गई है , अब उतरेगी नहीं । बोर्ड पर डी जी पी की सूची में लिखा अपना नाम दिखाया और कहा कि अब यह मिटेगा नहीं । बाकी आप माननीय मिनिस्टर हैं , जो चाहें कर सकती हैं । लेकिन इस दारोगा का ट्रांसफर मेरी कलम से नहीं रद्द होने वाला । वह जैसे भड़भड़ाती हुई आई थीं , वैसे ही भड़भड़ाती हुई चलीं गईं । संयोग से तब मैं चतुर्वेदी जी के साथ ही बैठा था , एक ख़बर के सिलसिले में । मैं ने पूरा विवरण लिख दिया । खबर उछाल कर छपी अख़बार में ।

सुबह-सुबह चतुर्वेदी जी का फोन मेरे पास आया । वह बहुत नाराज थे । बोले , कम से कम यह ख़बर आप को नहीं लिखनी चाहिए थी । एक बार मुझ से पूछ तो लिया होता । दिन में जब आफिस पहुंचा था मंत्री जी का खंडन और फोन दोनों आ चुका था । मंत्री जी ने लिखा था , खबर पूरी तरह मनगढ़ंत है । मैं कभी डी जी आफिस नहीं गई थी । न ऐसे किसी दारोगा को वह जानती हैं । प्रोटोकाल के मुताबिक उन्हें डी जी पी आफिस जाना भी नहीं चाहिए था । मैं ने फोन कर चतुर्वेदी जी को बताया कि आप की मैडम का खंडन आ गया है जिस में उन्हों ने लिखा है कि वह आप के पास कभी गई ही नहीं । न ऐसे किसी दारोगा को जानती हैं । अमूमन संजीदा और गंभीर रहने वाले चतुर्वेदी जी हंसे और बोले , फिर आप भी भूल जाईए और कोई फालोअप न ही लिखें तो अच्छा रहेगा । इन मंत्री मैडम के ऐसे और भी बहुत किस्से हैं जो फिर कभी । वह घोड़े पर सर्वदा इस लिए सवार रहती थीं कि फ़िरोज़ गांधी की सूची में वह कभी रही थीं और कि इंदिरा गांधी उन्हें सिर पर बिठाए रखती थीं ।

एक बार एक सेक्सलाजिस्ट के खिलाफ मैं ने खबर लिखी । इन मंत्री जी ने उस खबर को रोकने की जी तोड़ कोशिश की । खबर रुक भी गई तब । मालिकान ही रोक दिए उस खबर को । लेकिन संपादक की दिलचस्पी के चलते कुछ दिन बाद वह खबर छप गई । मंत्री मैडम धड़धड़ाती हुई संपादक की केबिन में पहुंची । और जो-जो नहीं कहना चाहिए था , कहा । संपादक ने हंसते हुए पूछ लिया कि , मैडम इस डाक्टर से आप भी अपना इलाज करवाती हैं क्या ? वह बिलकुल चुप हो गईं और चुपचाप चली गईं ।

एक पुराने राजनीतिज्ञ कान में फुसफुसा कर बताते थे कि जब यह औरत फ़िरोज़ से मिलने जाती थी , तो जाने के पहले बाथटब में शराब भर कर कुछ देर उस में लेट जाती थी। अजब नुस्खा था यह भी । इंदिरा गांधी भी खाली नहीं रहीं । तब के उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के साथ उन का समय गुजरने लगा था । शाहनज़फ़ रोड पर इन सब चीजों को ले कर इंदिरा और फ़िरोज़ के बीच झगड़े जब बहुत बढ़ गए , झगड़े का शोर सड़क तक सुनाई देने लगा तो नेहरु ने दोनों को लखनऊ से वापस दिल्ली बुला लिया । फ़िरोज़ गांधी के साथ जुड़ी वह औरत आज भी जीवित है । सेंचुरी में कदम हैं । स्वस्थ और सक्रिय हैं।

तो क्या यह मैडम मिनिस्टर रही भी कभी मी टू लिखेंगी ?

5 comments:

  1. जय हो .....������

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (14-10-2018) को "जीवन से अनुबन्ध" (चर्चा अंक-3124) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  3. कमाल ��
    बिंदास बोल के लिए नमन ��

    ReplyDelete
  4. दयानन्द पांडे जी राजनैतिक गलियारों की नैतिकता यही है कि वे कींच में खेलते हैं लैकिन बदबू बाहर तक आते आते रोक देते हैं। आपका संस्मरण पत्रकारिता का एक बेहद की उत्क्रष्ट नमूना है नहेरु, इंदिरा , फिरोज एक ही नाली के कीड़े हैं इनकी नेतिकता का तो कहना ही क्या है पिता की गोद में कई खेलीं तो बेटी केैसे बची रह सकती थी उसके अनेकों के साथ गलबहियाँ की वैसे भी करोड़पति की लड़की अगर भाग जाऐ तो उसने लब मैरीज कर ली और उसकी इज्जत में चार चाँद लग जाते हैं लैकिन गरीब की लड़की अगर अपनी मर्जी से किसी से शादी करने की भी बात कह दे तो वह कलमुही हो जाती है। यही सामाजिकता है । बैसे इन नंगों की तो पोल खुल चुकी है अपने आपको पंडित बताने वाले अफगानी मुसलमान थे नहरु और इन्हौने एक चाल चली थी जिसमे समस्त भारत को फँसा लिया कि पाकिस्तान को तो मुस्लिम राष्ट्र बना भारत से अलग करा दिया और भारत में 17 बड़ी मुस्लिम रियासतों को स्वतंत्र छोड़ कर और भारत को धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र का तमगा दे कर इन 17 रियासतों की सीमाऔं को खुला छोड़ दिया गया जिससे जब चाहें वे आक्रमण करें और भारत के कुछ हिस्से को हड़प कर मुस्लिम रियासत का हिस्सा बना लें । लैकिन समय रहते सरदार पटेल ने किये कराये पर पानी फेर दिया और इन सभी मुस्लिम रियासतों को 3 दिन की नहैरु की अनुपस्थिति में भारत में शामिल कर लिया इसी कारण यह नेहरु मृत्यु पर्यन्त कभी भी पटेल जी से नही बोला और तो और जब पटेल जी स्वर्गवासी हो गये तो अपने मंत्रिमंडल में घोषणा करबा दी कि कोई भी मंत्री सरकारी खर्चे पर पटेल के अंतिम संस्कार में शामिल नही होगा। वह चिढ़ा हुआ था कि उसे पटेल ने दीन की सेवा करने से रोक दिया था ।

    ReplyDelete