Friday, 20 February 2015

इन पुस्तक मेलों के मायने क्या हैं !

कुछ फेसबुकिया नोट्स

  • इतने सारे पुस्तक मेले लगते हैं । किसिम-किसिम के मेले । तो पुस्तक बिकती भी ज़रूर होगी। तो यह प्रकाशक लेखक को रायल्टी भी क्यों नहीं देते ? और कि रायल्टी देने के बजाय उलटे लेखक से ही किताब छापने के पैसे क्यों मांग लेते हैं । अभी एक मशहूर कवि बता रहे थे कि वह कुछ समय पहले दिल्ली में राजकमल प्रकाशन के मालिक से मिले अपना कविता संग्रह छपवाने के लिए । उस ने बिना दाएं-बाएं किए , बिना टाइम खराब किए , बिना पांडुलिपि देखे , फौरन एक लाख रुपए की मांग कर दी । कवि जी प्रकाशक से बोले , ' यह कुछ बहुत ज़्यादा नहीं हो गया ? रेट तो दस , पंद्रह और हद से हद बीस हज़ार का ही है ।' तो प्रकाशक बोला , ' वह तो ठीक है , पर हमारा बैनर भी तो बड़ा है। आखिर आप की किताब राजकमल के बैनर से छपेगी भी तो !' कवि जी , प्रकाशक को नमस्कार बोल कर के चले आए ! मैं ने कवि जी से कहा कि फिर नमस्कार भी करने की क्या ज़रूरत थी भला ? वह अफ़सोस करते हुए बोले , हां नमस्कार भी नहीं करना चाहिए था । कुछ और ' करना ' चाहिए था । मैं ने कहा कि आप इतने बड़े कवि हैं , आप का नाम है , आप की कई किताबें छपी हुई हैं । फिर भी आप से पैसा मांग लिया ? वह बहुत अफ़सोस के साथ बोले , ' अब मांग तो लिया !' ऐसे में इन पुस्तक मेलों के मायने क्या हैं ! कोई बताए भी भला ! यह तो वही हुआ कि किसान भूखो मरे और व्यापारी मज़े मारे !


  • हिंदी लेखक भी अजीब शै है। हज़ार, पांच सौ, ढाई सौ छपने वाली पत्रिका के संपादक की जी हुजूरी, चापलूसी कर , उस की पत्रिका बिकवा कर रचना छपवाता है। प्रकाशक को पैसे दे कर किताब छपवाता है। और फिर इस किताब का विमोचन भी अपने ही खर्च पर करवाता है। कभी इस मेले में , कभी उस मेले में। दिल्ली , लखनऊ , पटना , बनारस, मुंबई आदि-आदि जगहों पर । समारोह की फ़ोटो खिंचवाने , अखबारों में खबर छपवाने से लगायत लोगों को बुलाने , वक्ताओं का दामाद की तरह स्वागत करने, उन के नखरे उठाने, आए हुए लोगों को नाश्ता करवाने , रस रंजन आदि तक सारे उपक्रम कर के वह छाती फुला कर ऐसे बैठता है जैसे अब वही टालस्टाय है , वही गोर्की , वही ब्रेख्त है , वही शेक्सपियर , इलियट , बायरन , कीट्स, बर्नाड शा , वही टैगोर , वही शरतचंद्र , वही प्रेमचंद , वही कालिदास , वही भवभूति , वही फ़िराक , वही निराला , वही मीरा है , वही महादेवी है। आदि-आदि है। फिर फ़ेसबुक तो है ही जिस पर विमोचन समारोह की फ़ोटो चिपका कर अपनी विजय पताका फहराने की सर्वोत्तम जगह ! यकीन मानिए पुस्तक विमोचन की तमाम फोटुओं को देखते हुए मंदिरों या धर्मशालाओं में लगे वह पत्थर याद आने लगते हैं जिन्हें किसी न किसी अलाने-फलने लोग अपनी माता , अपने पिता या पत्नी की याद में लगाए होते हैं। एक जगह तो एक पत्थर यह भी मैं ने देखा है कि फला के गुप्तदान से बना हुआ ! तो आज कल इन पत्थरों सरीखे पुस्तक विमोचन समारोहों की बहार फिर अपने शबाब पर है ! जय हो !


  • खबर है कि नरेंद्र मोदी को बतौर प्रधान मंत्री उन्हें मिले 455 उपहारों की नीलामी होगी। जिन में उन का वह चर्चित सूट भी है जो उन्हों ने ओबामा से मुलाकात के समय पहना था , जिस पर उन का नाम नरेंद्र मोदी लिखा हुआ था। नीलामी में मिली धनराशि गंगा सफाई में लगाई जाएगी। तो क्या पाकिस्तान के प्रधान मंत्री नवाज़ शरीफ़ ने जो साड़ी या शाल उन की मां के लिए बतौर गिफ्ट भेजी थी , वह भी नीलाम होगी ? वैसे यह बात भी ज़रुर गौर तलब है कि जैसे मोदी की मां के लिए शरीफ़ ने गिफ्ट भेजा , वैसे ही कोई उन की पत्नी यशोदा बेन को भी कोई गिफ्ट क्यों नहीं भेजता या देता ? वह बेचारी तो सुरक्षा की गुहार कर के भी बिना मिले चुप हो गई !


  • हिंदी की विलुप्त विधाओं पर चर्चा ।


















  • तो क्या नरेंद मोदी की केंद्र में चल रही सरकार पांच साल के पहले ही गिर जाएगी? शरद यादव की जो मानें तो हां । आज एक चैनल को दिए गए इंटरव्यू में साफ कहा कि वह नरेंद मोदी की सरकार को जल्दी ही गिरा देंगे । काम चल रहा है । उन का दावा है कि राजीव गांधी की सरकार को भी समय से पहले उन्हों ने ही देवीलाल के साथ मिल कर गिराया था । वी पी सिंह , अरुण नेहरु, आरिफ खान आदि को तोड़ लिया था । नरेंद्र मोदी की सरकार को भी वह बहुत जल्दी ही भाजपा को तोड़ कर गिरा देंगे । अब अलग बात है कि वह अभी अपने ही घर में जीतनराम मांझी से निपटने में चित्त हुए जा रहे हैं । बता दूं कि तमाम अंतर्विरोधों के बावजूद शरद यादव मेरे पसंदीदा नेता हैं। लेकिन आज उन्हों ने जो कहा वह बात अभी-अभी , तुरंत-तुरंत तो नहीं हजम हो पा रही । फिर भी उन की बात पर यकीन न कर पाने का कोई कारण मेरे पास नहीं है। इस लिए भी कि शरद यादव हड़बड़ी में बयान देने वाले नेता नहीं हैं। दूसरे , नरेंद्र मोदी की तानाशाही के चलते भाजपा में अंदरूनी असंतोष अब सब के सामने है । तीसरे , राजनीति सर्वदा एक संभावना है।


  • नीतीश कुमार और जीतनराम मांझी की लड़ाई सिर्फ़ राजनीतिक लड़ाई नहीं है, जातिगत और स्वाभाविक लड़ाई है। ज़मीनी सचाई यह है कि दलित और पिछड़े हमेशा ही से लड़ते आए हैं और अकसर दलित ही हारते आए हैं । मंडल आयोग की हवा में कुछ दिनों तक यह लड़ाई परदे में आ गई थी । लेकिन गांवों में पहले दलितों के मुकाबले यादव खड़े होते थे , अब भी नीतीश भले आगे कर दिए गए हैं पर मुकाबले में शरद यादव और लालू यादव ही हैं। उत्तर प्रदेश में मुलायम , मायावती का एक होना और फिर मायावती पर कातिलाना हमला भी इसी लड़ाई की बानगी थी। मायावती को भी फिर सवर्णों की पार्टी कही जाने वाली भाजपा और अटल बिहारी वाजपेयी ने ही उन्हें राजनीतिक जीवदान और उत्कर्ष दिया पर वह अपनी आदत के मुताबिक़ भाजपा को भी डसने में देर नहीं लगाई । बिहार में भी यही कथा दुहराई जा रही है । फ़र्क सिर्फ़ यह है कि नीतीश कुमार सुलझे हुए हैं , यादवी मूर्खताओं से बचे हुए हैं और कि हिंसा पर आमादा नहीं हैं । लेकिन सोचिए की अगर यही कमान नीतीश की जगह लालू के हाथ होती तो वह क्या करते ? बल्कि कहिए कि क्या-क्या नहीं करते ! हालां कि इस लड़ाई में मांझी चाहे जितनी उछल-कूद कर लें विधान सभा में उन की पराजय निश्चित है। हां अगर दिल्ली में भाजपा की इस बुरी तरह पराजय नहीं हुई होती तो मांझी की ज़रूर बल्ले-बल्ले होती ! दिल्ली की हार ने भाजपा को सकते में डाल दिया है। सो वह मांझी को झाड़ पर चढ़ा कर किनारे खड़ी हो गई है। और मांझी मझदार में खड़े अपनी नाव डूबती हुई देखने के लिए अभिशप्त हो गए हैं ।


  •  आचार्य माता प्रसाद त्रिपाठी से मेरी मुलाकात तब हुई थी जब मैं बी ए में पढ़ता था और वह गोरखपुर विश्वविद्यालय में आचार्य थे। लेकिन वह मिलते सर्वदा मित्रवत ही थे। आचार्यत्व के बोझ से कभी लदे-फदे नहीं मिलते थे। पान खाते हुए गलचौर में खूब मज़ा लेते थे। हमारी मुलाकात नियमित थी । मेरी रचनाएं कभी कहीं छपती, वह तुरंत बताते । न सिर्फ़ मुझे बल्कि हर किसी को । जैसे कि एक बार जब मेरा गीत नया प्रतीक में छपा तो मुझे यह सूचना देते हुए वह मुझ से ज़्यादा प्रसन्न और उत्तेजित थे । ऐसे ही अकसर । बाद के दिनों में मैं दिल्ली चला गया। उन दिनों मैं सर्वोत्तम रीडर्स डाइजेस्ट में नौकरी करता था तभी दिल्ली में विश्व हिंदी सम्मेलन आयोजित हुआ। माता प्रसाद त्रिपाठी भी उस में शिरकत करने गोरखपुर से दिल्ली आए थे। जहां उन को ठहराया गया था , वहां जब उन्हें छोड़ने गया तो देखा कि वह जगह ठीक नहीं थी सो उन को मैं अपने घर चलने को कहने लगा। तो वह बोले , अरे , हम पांच लोग हैं। मैं ने कहा , आप सभी लोग चलिए । तब मैं बैचलर था और मानसरोवर पार्क में रहता था। सभी लोग आ गए। तीन-चार दिन कब निकल गए, पता नहीं चला। दिल्ली में उस बार मेरे घर रहने को भी आज वह बार-बार याद करते रहे । बाद के दिनों में मैं लखनऊ आ गया। पर ज़माना गुज़र गया माता प्रसाद त्रिपाठी से मुलाकात नहीं हो पाई। एक दशक से भी अधिक समय इतिहास विभाग में विभागाध्यक्ष रहने के बाद अब वह अवकाश प्राप्त कर बस्ती ज़िले के अपने गांव में रहते हैं । बीते दिनों लखनऊ के पुस्तक मेले में उन से भेंट हुई। कल 9 फरवरी को उन्हें यश भारती से सम्मानित किया जायेगा । तो आज वह लखनऊ आए और मेरे घर भी आए तो बहुत अच्छा लगा । बहुत सारी नई-पुरानी यादों को हम लोगों ने सहेजा। अपने ललित निबंध संग्रह सब रंग : लोक राग भी वह मुझे भेंट में दे गए। साथ ही मन में मिसरी सी आत्मीयता भी घोल गए। Mataprasad Tripathi










  • तो क्या दिल्ली के बाद अरविंद केजरीवाल का अब अगला पड़ाव बिहार होगा ?


  • राजनीति और चुनावी राजनीति सिर्फ़ रणनीति और छल-छंद से ही नहीं मंहगाई से भी चलती है। राहुल गांधी या किरन बेदी जैसे बोझ भी चुनावी राजनीति को प्रभावित करते हैं। नरेंद्र मोदी और अमित शाह की हेकड़ी भी कोई अरविंद केजरीवाल निकाल सकता है। इवेंट मैनेजरी के आगे भी दुनिया है ! गोस्वामी तुलसी दास राम चरित मानस में वैसे ही थोड़े लिख गए हैं :
रावन रथी विरथ रघुवीरा।
देखि विभीषण भयउ अधीरा॥
यह एक बार फिर सच साबित हो गया है !





  • सत्तर के दशक में एक फ़िल्म आई थी ब्लैकमेल। धर्मेंद्र इस के हीरो थे, राखी हीरोइन और शत्रुघन सिनहा खलनायक। कई सारी फ़िल्मों में शत्रुघन सिनहा खलनायक रहे हैं। बाद में नायक बन गए। इन दिनों चरित्र भूमिकाएं करते हैं । लेकिन राजनीति में वह लगतार ब्लैकमेलर ही बने रहे हैं । एक समय तो यह भी आया कि वह अपने घर में इंदिरा गांधी की फ़ोटो दिखा कर इंदिरा से अपने पुराने रिश्ते भी बता गए थे । बाद के दिनों में आडवाणी खेमे में रह कर , उन की डुगडुगी बजा कर अटल बिहारी वाजपेयी को ब्लैकमेल कर वह कैबिनेट मंत्री बने थे। स्वास्थ्य मंत्रालय का काम लिया। तब जब कि वह राज्य सभा में थे और तब तक लोक सभा चुनाव हारते रहे थे । ब्लैकमेल कर ही वह राज्य सभा में भी आए थे। वहीं विनोद खन्ना लोक सभा में जीत कर आए थे। फ़िल्म में भी वह शत्रुघन सिनहा से सीनियर हैं और ज़्यादा सफल फ़िल्में भी हैं उन के पास तो भी उन्हें राज्य मंत्री बनाया गया था। राजनीति में शत्रुघन सिनहा निरंतर ब्लैकमेल कर ही कामयाब होते रहे हैं। लेकिन नरेंद्र मोदी उन के ब्लैकमेल के ट्रैप में अभी तक नहीं फंसे हैं , उन्हें मंत्री भी नहीं बनाया। अब इस अवसाद का क्षोभ वह दिल्ली विधान सभा के बीच चुनाव में अरविंद केजरीवाल की तारीफ झोंक कर जता रहे हैं ! अब यह देखना दिलचस्प होगा कि इस चुनाव के बाद नरेंद्र मोदी , शत्रुघन सिनहा के साथ क्या सुलूक करते हैं ? मार दिया जाए, कि छोड़ दिया / बोल तेरे साथ क्या सुलूक किया जाए ! गाने की स्थिति में आ गए हैं फ़िलहाल शत्रुघन सिनहा ! शायद इस सुलूक के बाद वह अपने ही एक डायलाग ' ख़ामोश !' की हैसि यत में आ जाएं!


  • तो क्या दिल्ली विधान सभा इस बार भी त्रिशंकु होने की राह पर है ?


  • राजनीति कीचड़ है , गंदगी है कहने वाले अन्ना हजारे की याद अब तो अरविंद केजरीवाल को ज़रूर बड़ी शिद्दत से आ रही होगी !


  • किरण बेदी बहुत बहादुर और ईमानदार औरत हैं लेकिन वक्ता बहुत खराब हैं। और राजनीतिक भाषण देने उन्हें बिलकुल नहीं आता। वह अपनी पुलिसिया कैरियर और नरेंद मोदी की तारीफ के अलावा कुछ जानती ही नहीं। कड़कड़डुमा की भीड़ भरी रैली में वह बहुत ख़राब बोलीं। बोलने के मामले वह अरविंद केजरीवाल की पासंग भी नहीं हैं।


  • फ़ेसबुक पर अराजकता , झक, तानाशाही के अलमबरदार और हद दर्जे के हिप्पोक्रेट जब कहते हैं कि अब हम फ़ेसबुक छोड़ देंगे तो उन पर हंसी आती है। और एक पुराना फ़िल्मी गाना याद आ जाता है , मैं मैके चली जाऊंगी , तुम देखते रहियो ! 


   

No comments:

Post a comment