Thursday, 17 March 2016

भारत माता की जय बोलने से घबराए लोग जय हिंद बोल रहे हैं


 ग़ज़ल

हर आग में हाथ सेंकने वाले डर डर के सही जय हिंद बोल रहे हैं 
भारत माता की जय बोलने से घबराए लोग जय हिंद बोल रहे हैं

यह उन की मजबूरी ही सही पर यह बदलाव बहुत बड़ा है दोस्तों
सेना को बलात्कारी बोलने वाले मक्कार भी जय हिंद बोल रहे हैं  

जिन की आदत पुरानी बहुत मां को पिता की बीवी कहते रहने की
बदल गए हैं अब वह भी अम्मी अम्मी कह कर जय हिंद बोल रहे हैं  

एक जावेद अख्तर की तकरीर ने तस्वीर बदल दी है नफ़रत की
जान से प्यारा पाकिस्तान बोलने वाले भी अब जय हिंद बोल रहे हैं 

आप अपनी मां को मां नहीं कहते तो कहते क्या हैं बताईए भला 
 दिक्कत है नफ़रत की नदी में डूब कर वह जय हिंद बोल रहे हैं  

भारत माता की जय बोल कर आज़ाद हुआ यह देश सब जानते हैं 
यह हराम हो गया कैसे कि मुंह छुपाने के लिए जय हिंद बोल रहे हैं 

जय हिंद जय हिंद की सेना तो बलिदानी होती है उन्हें मालूम नहीं 
बलिदानी भी यह हैं नहीं जाने किस डर से यह जय हिंद बोल रहे हैं

देश को सर्कस बना कर सही अपनी मिट्टी पलीद करवा कर सही
मुखौटा उतार अफजल के पैरोकार भी अब जय हिंद बोल रहे हैं  

जनता जानती है सब उठ कर खड़ी हुई तो हवा बदल गई इस कदर 
हवा का असर है एक से एक जहरीले नाग अब जय हिंद बोल रहे हैं 

वह उत्पात कर कर के डर गए हैं बहुत जैसे सन्निपात के मारे हुए हों
जय हिंद जय हिंद वह बारंबार बारंबार जय हिंद जय हिंद बोल रहे हैं 


[ 17 मार्च , 2016 ]

No comments:

Post a Comment