Wednesday, 23 March 2016

मदहोश हो गए हैं रंग भी तुम से आज होली खेल कर


ग़ज़ल 

यह रंग बरसों याद करेंगे तुम से आज होली खेल कर
मदहोश हो गए हैं रंग भी तुम से आज होली खेल कर

फूल पागल गुलाल डगमग तुम्हारे कपोल पर लग कर 
हथेलियां चहकी हुई बहकी हुई हैं आज होली खेल कर 

तुम घुल गई हो रग रग में रंग बन कर मन के संगम में 
कि जैसे गंगा बहती चली जाती जमुना से होली खेल कर

बांसुरी की तान में भीगी वृंदावन की गलियां डूबी हैं रंग में 
मेरी राधा मुझ में ही नाच नाच झूम रही आज होली खेल कर

यह कौन सा प्रयाग है मन का यह कौन सा तीर्थराज है
ढूंढता है प्रारब्ध जीवन का तुम में तुम से होली खेल कर 

रंग बरसेंगे और तरसेंगे अगले बरस तक इस रंग ख़ातिर
उमंग की गंगा में जिस तरह डुबोया आज होली खेल कर

[ 23 मार्च , 2016 ]

3 comments:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 24-03-2016 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2291 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  2. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर ...
    होली की शुभकामनाएं!

    ReplyDelete