Friday, 11 March 2016

इन दिनों फैशन नया चला है सेना को गरियाने का



ग़ज़ल 

अभिव्यक्ति की हवा चली है मौसम है बतियाने का
इन दिनों फैशन नया चला है सेना को गरियाने का

सेना में दाल नहीं गलती कमिश्नरी वहां  नहीं चलती
सेना से डरते हैं सो मकसद है सेना को भटकाने का

मित्रों यह साज़िश बहुत बड़ी है विदेशी फंडिंग की
सेना बलात्कारी बहुत बड़ी ऐसा माहौल बनाने का

सिस्टम नहीं देश तोड़ना मकसद तो उन का साफ है 
बिलकुल यही सही मौका है फासिस्टों को दौड़ाने का

अभी असहिष्णुता की आंधी आई थी वह पिट कर चली गई
सेना बलात्कारी है उन का एजेंडा है यही ढोल पिटवाने का

आज़ादी का पापड़ खा कर वह बकर बकर बतियाते हैं
लेकिन डर बहुत लगता है उन को भीड़ में पिट जाने का

देशद्रोही नारों ने उन को बेमकसद बना पिटवा  दिया
नशा भी उन का यह नया नया है अपनी देह तुड़वाने का

कभी उन को देखिए कभी उन का शौक उन की हसरत भी
श्रद्धांजलि सभा में सेल्फ़ी ले कर फेसबुक पर चिपकाने का

अब आज़ादी के ढोल की होड़ व शोर देखिए इन विद्वानों में
अफजल याकूब व इशरत जैसे गद्दारों को शहीद बतलाने का
 
देश बांटना समाज तोड़ना जहरीली बातों और कुतर्कों में जीना 
इन का मक़सद सिर्फ़ और सिर्फ़ एक है देश को झुलसाने का

वह क्या जानें सेना की ताक़त सेना की छांव सेना का ममत्व
सेना है तो हमारी आन बान शान है समय है यह बतलाने का

सरहद से घर की विपदा तक वह मां की तरह खड़े मिलते हैं 
जाति धर्म के खांचे से ऊपर उन का धर्म है सब को बचाने का 

 [ 11 मार्च , 2016 ]

2 comments:

  1. कृपया शेयर के विकल्प में WhatsApp भी रखें , कभी-कभी कुतर्क से बचने के लिए ऐसा करना अनिवार्य हो जाता है।

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (13-03-2016) को "लोग मासूम कलियाँ मसलने लगे" (चर्चा अंक-2280) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete