Thursday, 14 January 2016

ताजमहल भारत में है पाकिस्तान बना सकता नहीं



ग़ज़ल 

पाकिस्तान आख़िर पाकिस्तान है सुधर सकता नहीं 
ताजमहल भारत में है पाकिस्तान बना सकता नहीं   

धरती आकाश समंदर बंटता है  उस का पानी भी 
पाकिस्तान का  माईंड सेट कोई बदल सकता नहीं

आतंक पाकिस्तानी सेना का मजहब है मुहब्बत दुश्मन 
खून ख़राबा उस का बुनियादी चरित्र जो बदल सकता नहीं  
 
फ़ौज भारत में भी है मनुष्यता की सर्वदा हामीदार होती है
 विपदा कैसी भी ऐसी  मदद कोई और तो कर सकता नहीं

भारतीय सेना मदद को दुनिया भर में बुलाई जाती है
पाकिस्तानी सेना से मदद कोई  देश मांग सकता नहीं
 
[ 14 जनवरी , 2016 ]

2 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (16-01-2016) को "अब तो फेसबुक छोड़ ही दीजिये" (चर्चा अंक-2223) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    नववर्ष 2016 की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. बुलंद कविता है ।
    seetamni. blogspot. in

    ReplyDelete