Tuesday, 19 January 2016

फ़ेसबुक गूगल अमरीकी हैं पूंजीवादी हैं फिर आप यहां उपस्थित कैसे हैं




 ग़ज़ल

कामरेड अंतर्विरोध बहुत गहरे हैं आप के आंख मूंद पालते पोसते कैसे हैं
फ़ेसबुक गूगल अमरीकी हैं पूंजीवादी हैं फिर आप यहां उपस्थित कैसे हैं

यह अंतर्विरोध है मौकापरस्ती है हृदय परिवर्तन या कि कोरी फैशनपरस्ती
मालूम भी है फेसबुक पर आप की लफ्फाज़ी को लोग देखते भला कैसे हैं

पर आप तो अपने ही में मगरूर देखें भी भला कैसे चौहद्दी तोड़ें भी कैसे
कामरेड यह तो बताएं आप इस बंद कुएं में इतने चैन से रहते कैसे हैं

जो कम्यूनिस्ट नहीं है वह आदमी भी नहीं है अजब है यह फ़िलासफ़ी भी
 इस फासिज़्म पर कौन न फ़िदा हो आप के निगहबान भी कैसे-कैसे हैं

माना कि आप का बना बनाया सुचिंतित गैंग है कुतर्क के हथियारों से लैस भी
साथी कामगार तो फेसबुक पर हैं ही नहीं फिर उन को एड्रेस करते भी कैसे हैं

जो कम्यूनिस्ट नहीं है वह आदमी भी नहीं है अजब है यह फ़िलासफ़ी भी
इस फासिज़्म पर कौन न फ़िदा हो इस मासूमियत पर कुर्बान सारे सदक़े हैं

सभी विचारधारा के लोग हैं यहां संघी भी हैं ब्राह्मण भी रिएक्शनरी भी
आप तो हर किसी के साथ मंच साझा करते नहीं पर यहां करते कैसे हैं

अच्छा-अच्छा ब्लाक करते हैं लेकिन आप तो सर्वहारा के अलंबरदार ठहरे
इस भरी डेमोक्रसी में तानाशाही का बूट पहने खुले आम घूमते-फिरते कैसे हैं

छुआछूत तो ब्राह्मणों की बपौती थी यह बताने की दुकानदारी ठहरी आप की
पर अब तो छुआछूत आप का स्थाई भाव हो गया इस को मेनटेन करते कैसे हैं

घर में घंटी बजा कर आरती बाहर धर्म की ऐसी-तैसी की नौटंकी का पाखंड
कुर्बान जाऊं ऐसी मासूमियत पर इस फासिज़्म पर जां -निसार कैसे-कैसे हैं

सामाजिक परिवर्तन शोषक शोषित वर्ग संघर्ष जैसे सरोकार कब का भूल गए 
जाति और धर्म का जहर घोलने के अलावा कोई और काम आप करते कैसे हैं

धर्म अफ़ीम है मार्क्स कहता है जानते मानते इस सचाई को  हम सब भी हैं
कमाल यह कि धर्म की राजनीति कर मार्क्स को भी आप पानी पिलाते कैसे हैं 

[ 19 जनवरी , 2016 ]

3 comments: