Monday, 4 July 2016

मेरे मन के आषाढ़ को अपने सावन से मिलने तो दो


ग़ज़ल

रिमझिम फुहारों में भीज कर मुझे फिसलने तो दो 
मेरे मन के आषाढ़ को अपने सावन से मिलने तो दो

तुम्हारे प्यार में पुलक कर मन मेघ हुआ जाता है
इसे अपने भीतर बरस बरस जी भर भीजने तो दो

अकारथ कुछ भी नहीं जाता मन के मेघ बरसेंगे ज़रुर
मेह के नेह को सरोवर नदी सागर तक पहुंचने तो दो

बादल है बरखा है जंगल है मादक हवा और तुम
इस बरसते मेघ को मेरा कोई संदेश कहने तो दो

मन की मछली को तड़प कर मरने से बचाना ज़रुरी 
प्रेम की नाव को अपने मन की नदी में उतरने तो दो

एक आग मेरे भीतर मुसलसल सुलग रही है कब से
इस सुलगती आग को मन के जंगल में जलने तो दो

आकाश नदी जंगल और समंदर हर कहीं तुम्हारी तलब
एक सपना देखा है उसे ज़मीन पर ज़रा उतरने तो दो


[ 4 जुलाई , 2016 ]

No comments:

Post a Comment