Thursday, 7 July 2016

अब सजदा मेरा हराम है इतने लोगों के मर जाने के बाद


ग़ज़ल 

अब नमाज भला कैसे पढूं बम विस्फोट हो जाने के बाद
अब सजदा मेरा हराम है इतने लोगों के मर जाने के बाद

इस्लाम हम शर्मिंदा हैं बहुत अब लाशें भी चीखती हैं 
किस किस को रोऊं भला दोस्तों को दफनाने के बाद 

मेरे अल्लाह मेरे पैगंबर तुम कहां हो किस जहां में हो 
क्या आओगे अब किसी और कयामत के आने के बाद 

इस लगातार खूंखार खूंरेजी पर भी तुम ख़ामोश हो कैसे 
सवाल बहुत हैं तुम्हारे इस तरह ख़ामोश रह जाने के बाद

ढाका हो मदीना हो पेरिस पाकिस्तान भारत अमरीका
फातिहा पढ़ना बेकार है इतने हमले हो जाने  के बाद 

[ 7 जुलाई , 2016 ]

No comments:

Post a Comment