Saturday, 7 May 2016

संबंधों में लड़ नहीं पाता बस रास्ता बदल लेता हूं



ग़ज़ल 

अभिनय हो नहीं पाता सो सीन से निकल लेता हूं
संबंधों में लड़ नहीं पाता बस रास्ता बदल लेता हूं

दिख जाते हैं अब भी कभी कभार वह चौराहे पर 
सिगरेट सुलगाता हूं सुलगता हूं और चल देता हूं

जो मिलते कम जलाते ज़्यादा उन से दूरी भली
होता मुश्किल है लेकिन फ़ैसला अटल लेता हूं

सपना मुहब्बत मरना जीना गगन बिहारी बातें हैं
बहुत प्यार आता है तो दर्पण देख मचल लेता हूं

मौसम उदासी मूड तनहाई और तंज में डूबी बात 
याद करता हूं बेसबब बिना वजह उछल लेता हूं

आकाश उड़ान गुमान सब दुःख देने के लिए बने 
 कहना सुनना बेमानी बर्फ़ की तरह गल लेता हूं

बहुत प्यार कर लेने के बाद पर्वत बन जाती है वह
मुश्किल हो जाती जब बहुत समंदर में ढल लेता हूं

जल जंगल ज़मीन सब अपने हैं बस एक वह नहीं 
एक सपना बुनता हूं स्वेटर की तरह पहन लेता हूं

घुटन बहुत हो जाती ज़िंदगी में तो कभी रोता नहीं
मन की खिड़की सारी बहुत प्यार से खोल लेता हूं 

जैसे वृक्ष में कोंपल जैसे दूब में दूध जैसे नभ में सूर्य  
तुम्हारी श्रद्धा में डूब अपनी अंजुरी भर जल लेता हूं

[ 7 मई , 2016 ]

5 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" सोमवार 09 मई 2016 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (09-05-2016) को "सब कुछ उसी माँ का" (चर्चा अंक-2337) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    मातृदिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  3. लाजवाब ग़ज़ल।
    अभिनय हो नहीं पाता सो सीन से निकल लेता हूं
    संबंधों में लड़ नहीं पाता बस रास्ता बदल लेता हूं

    दिख जाते हैं अब भी कभी कभार वह चौराहे पर
    सिगरेट सुलगाता हूं सुलगता हूं और चल देता हूं

    ReplyDelete
  4. लाजवाब ग़ज़ल।
    अभिनय हो नहीं पाता सो सीन से निकल लेता हूं
    संबंधों में लड़ नहीं पाता बस रास्ता बदल लेता हूं

    दिख जाते हैं अब भी कभी कभार वह चौराहे पर
    सिगरेट सुलगाता हूं सुलगता हूं और चल देता हूं

    ReplyDelete
  5. अभिनय हो नहीं पाता सो सीन से निकल लेता हूं
    संबंधों में लड़ नहीं पाता बस रास्ता बदल लेता हूं

    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete