Wednesday, 7 November 2018

नदी किनारे लाखों दियों की नदी थी कि तुम थी



ग़ज़ल 

पटाखे सी छूटती यह दीपावली थी कि तुम थी 
नदी किनारे लाखों दियों की नदी थी कि तुम थी 

रोशनी की नदी थी कि हमारे प्रेम की सदी 
मनुहार की नदी में नहाया मैं था कि तुम थी

डूब गया था बीच धार बच गया जाने कैसे 
लोग थे नाव थी पतवार थी कि तुम थी 

मिलना अकुलाना अकुला कर मचल जाना  
परछाई में मचलती मछली थी कि तुम थी 

जगमग प्रेम की रोशनी थी सरयू का किनारा 
नदी की धार में लचकती लहर थी कि तुम थी 

राम के स्वागत में नाचती गाती अयोध्या है 
सीता के सम्मान में डूबी रामधुन थी कि तुम थी 

अमावस थी आकाश भी ओट में चांद भी
सुबह के सूर्य में चमकती ओस थी कि तुम थी 


[ 7 नवंबर , 2018 ]


1 comment:

  1. वाह ! दीपावली के मधुरिम प्रकाश में भीगी हुई पंक्तियाँ..

    ReplyDelete